कश्मीर पर एक नज़्म

BY Prithvi | PUBLISHED: 15 July 2016

कश्मीर 

पहाड़ों के जिस्मों पे बर्फ़ीली चादर
चिनारों के पत्तों पे शबनम के बिस्तर
हसीं वादियों में महकती है केसर
कहीं झिलमिलाते हैं झीलों के ज़ेवर
है कश्मीर धरती पे जन्नत का मंज़र

यहां के बशर हैं फ़रिश्तों की मूरत
यहां की ज़ुबां है बड़ी ख़ूबसूरत
यहां की फ़िज़ा में घुली है मुहब्बत
यहां की हवाएं मुअत्तर-मुअत्तर
है कश्मीर धरती पे जन्नत का मंज़र

ये झीलों के सीनों से लिपटे शिकारे
ये वादी में हंसते हुए फूल सारे
यक़ीनों से आगे हसीं ये नज़ारे
फ़रिश्ते उतर आए जैसे ज़मीं पर
है कश्मीर धरती पे जन्नत का मंज़र

सुख़न सूफ़ियाना, हुनर का ख़ज़ाना
अज़ानों से भजनों का रिश्ता पुराना
ये पीरों फ़कीरों का है आस्ताना
यहां मुस्कुराती है क़ुदरत भी आकर
है कश्मीर धरती पे जन्नत का मंज़र

मगर कुछ दिनों से परेशान है ये
तबाही के मंज़र से हैरान है ये
पहाड़ों में रहने लगी है ख़मोशी
चिनारों के पत्तों में है बदहवासी

न केसर में केसर की ख़ुशबू रही है
न झीलों में रौनक़ बची है ज़रा-सी
हर इक दिल उदासी में डूबा हुआ है
हर इक दिल यहां बस यही कह रहा है-

संभालो-संभालो फ़रिश्तों का ये घर
बचा लो बचा लो ये जन्नत का मंज़र
बचा लो बचा लो ये जन्नत का मंज़र

-आलोक श्रीवास्तव

इस नज्म को जगजीत सिंह की आवाज में यहां सुना जा सकता है.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App