ताजा समाचार

प्रियंका और वरुण हो सकते हैं यूपी में कांग्रेस के संकट मोचक!

BY Shivkant | PUBLISHED: 4 July 2016
* इतने सालो में पहली बार कांग्रेस ने अपने ऑफिसियल टविटर हैंडल पर स्वर्गीय संजय गांधी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि वयक्त की है और फिर इतने सालो में पहली बार सोनिया गांधी स्वर्गीय संजय गांधी की समाधि पर गई।
* ये सब होता देख कांग्रेस के दूसरे नेताओं के भी सुर बदले और उन्होंने भी अपने ट्विटर हैंडल से संजय गांधी को याद किया, इस चर्चा ने और बल पकड़ा ये दो परिवार फिर से एक हो सकते है.
* पिछले यूपी चुनाव में प्रियंका गांधी ने वरुण गांधी के भाषण की काफी निंदा की थी पर समय के साथ अब सब कुछ बदला- बदला सा नजर आ रहा है.
भारतीय जनता पार्टी के अंदर वरुण गांधी को यूपी चुनाव के तहत मुख्यमंत्री के दावेदार बनाने की सुगबुगाहट थी पर कांग्रेस पार्टी की सुप्रीमो के अचानक संजय गांधी के प्रति प्रेम से अब शायद इस बात पर विराम लग जाए. वैसे भी गांधी मुक्त भारत की बात करने वाले बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व को वरुण गांधी कुछ खास हजम नहीं हो रहे थे। तो ये खेल दोनों –कॉंग्रेस और वरुण गांधी– के माफ़िक़ बैठता है; कुछ तो बीजेपी की दुविधा बढ़ाने के लिए और कुछ अपनी स्थिति मज़बूत करने में।
वरुण गांधी के कॉंग्रेस में आने से पार्टी को एक सशक्त वक्त मिलता है और एक लोकप्रिय नेता. इन दोनों ही गुणों की पार्टी को आवश्यकता है।  पर दुविधा ये है की तीनो गांधी राहुल, वरुण और प्रियंका कॉंग्रेस में क्या फिट हो पाएंगे. राजनीति में कुछ भी संभव है और फिलहाल पार्टी में वरुण की घर वापसी की हिमायत करने वालो का पलड़ा भरी दिख रहा है. पर रास्ते में एक और बड़ी रुकावट है : सोनिया और मेनका गांधी के बीच अभी तक बना हुआ छत्तीस का आंकड़ा। अगर दौरानी-जेठानी में बात बन जाए तो यह पारिवारिक मिलन संभव है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App