अनर्थ का ओलंपिक

29-rio-olympics-1.w710.h473.2x

ब्राजील के शहर रियो दि जिनेरो में ओलंपिक 2016 शुरू होने वाले हैं। दुनिया भर के एथलीट वहाँ पहुँचना शुरू हो गए हैं लेकिन व्यवस्था का नाम नहीं है। शहर की हवा व पानी में प्रदूषण है। प्रतियोगिताओं से जुड़ी तैयारियां अधूरी हैं। लोगों ने इस आयोजन को अनर्थ का ओलंपिक तक कह दिया है।

‘न्यूयार्क’ पत्रिका में मरीन कॉगन की एक रपट प्रकाशित हुई है जिसमें रियो दि जिनेरो में ओलंपिक तैयारियों में कमियों को रेखांकित किया गया है। इस रपट के अनुसार स्थानीय अधिकारियों का दावा था कि वे खेलों से पहले व्यापक सफाई अभियान से सब चाक चौबंद कर देंगे और गंदगी का नामोनिशान नहीं रहेगा, तरणताल साफ होंगे और पानी स्वच्छ। लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं हुआ। जिन तरणतालों या जलमार्गों में तैराकी से जुड़ी प्रतियोगिताएं होनी हैं उनमें कचरा भरा हुआ है। यहां तक किए एक स्थानीय डाक्टर का कहना है कि ‘विदेशी एथलीट एक तरह से मानव मल से भरे पानी में तैरेंगे।’

इस बीच देश के कम से एक एथलीट ने खेलगांव छोड़ वैकल्पिक ठिकाना तलाश लिया है।

इसके अलावा सुरक्षा को लेकर चिंताएं हैं। पिछले सप्ताह ब्राजील की पुलिस ने घोषणा की उसने आतंकी हमले की कथित योजना बना रहे एक समूह के दसवें संदिग्ध को गिरफ्तार किया है। चिंताओं व आशंकाओं के बीच सरकार ने 6000 सुरक्षा जांचकर्ताओं की भर्ती व प्रशिक्षण का जिम्मा ऐसी फर्म को सौंपा है जिसे ज्यादा लोग जानते भी नहीं।

देश में अपराधों की स्थिति बहुत चिंताजनक है। ब्राजील के ही प्रमुख फुटबॉलर रिवाल्डो ने इसी साल ओलपिंक लिए ब्राजील आने वालों को आगाह करते हुए कहा था कि बेहतर होगा कि वे अपने घर ही रहें। उन्होंने इंस्टाग्राम पर लिखा था ‘आप यहाँ अपनी जान जोखिम में डालेंगे। ब्राजील में हालात तो केवल भगवान ही बदल सकते हैं।’

इस तरह की अपील करने वाले वे अकेले नहीं हैं। मई के आखिर में दुनिया भर के 150 डाक्टरों व विज्ञानियों ने एक खुला खत लिखकर अपील की कि जिका महामारी को ध्यान में रखते हुए ओलपिंक खेलों को या तो टाल दिया जाए या अन्यंत्र स्थानांतरित किया जाए।

मरीन कॉगन की पूरी रपट यहाँ पढ़ें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - मरीन कॉगन, न्यूयॉर्क