गोरखपुर मेडिकल कालेज में 60 की मौत, सियासी पारा चढ़ा

BY EP Hindi | PUBLISHED: 12 August 2017

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कालेज में ऑक्सीजन की कमी के कारण 5 दिन में 60 लोगों की मौत के बाद राजनीति तेज हो गई है। मेडिकल कालेज में कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल पहुंचा है।

गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर, संजय सिंह और प्रमोद तिवारी गोरखपुर में मेडिकल कालेज के दौरे पर हैं। कांग्रेस ने इस घटना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार को जिम्मेदार माना है। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यह बहुत दुखद घटना है। राज्य सरकार की नाकामी का नतीजा है। उन्होंने कहा इस प्रकरण पर तो गोरखपुर से सांसद प्रदेश के मुख्यमंत्री को माफी मांगनी चाहिए। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह को इस बेहद दर्दनाक प्रकरण पर इस्तीफा दे देना चाहिए। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए सांसदों की टीम बने।

गुलाम नबी आजाद के साथ कांग्रेस नेता महाबल मिश्रा ने मुख्यमंत्री से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक का इस्तीफा मांगा है। महाबल मिश्रा ने कहा कि यह कुशासन है। 30 बच्चों की मौत हो गई है। इसकी पूरी तरह से जांच होनी चाहिए और जो दोषी हैं उनके खिलाफ कार्रवाई हो। योगी और मोदी इतनी बड़ी-बड़ी बातें करते रहते हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है। नैतिकता के आधार पर योगीजी को खुद इस्तीफा देना चाहिए।

केंद्र से लेकर राज्य तक भाषण और दबाव की राजनीति चल रही है। जातिगत राजनीति चल रही है। जमीनी स्तर पर यह घटना बयां कर रही है कि प्रदेश में कोई काम नहीं हो रहा है।

गोरखपुर में बच्चों की मौत ने अब राजनीतिक रंग ले लिया हैं। विपक्ष ने मामले पर योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है कि गोरखपुर मे ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की दर्दनाक मौत, सरकार जिम्मेदार। कठोर कार्रवाई हो, 20-20 लाख का मुआवजा दे सरकार।

वहीं राहुल गांधी का ट्वीट आया कि भाजपा सरकार इसके लिए जिम्मेदार है। लापरवाही बरतने वालों को सजा मिलनी चाहिए। बीएसपी की ओर किए गए ट्वीट में लिखा गया कि योगी सरकार को बर्खास्त कर देना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्री समेत हॉस्पिटल के स्टॉफ को जेल भेज देना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - एडिट प्लैटर