चीन और भारत एक दूसरे के साथ अच्छे पड़ोसी की तरह रहें: दलाई लामा

BY EP Hindi | PUBLISHED: 14 August 2017

तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा ने सोमवार को कहा कि भारत और चीन एक दूसरे को हरा नहीं सकते और दोनों देशों को अच्छे पड़ोसी की तरह साथ रहना होगा। उन्होंने जोर देकर कहा कि ‘हिंदी-चीनी भाई-भाई’ की भावना को आगे बढ़ाना एकमात्र रास्ता है।

दलाई लामा ने कहा, ‘मौजूदा सीमा स्थिति में ना तो भारत और ना ही चीन एक दूसरे को हरा सकते हैं। दोनों देश सैन्य शक्ति सम्पन्न हैं।’ उन्होंने कहा, ‘सीमा पार गोलीबारी की कुछ घटनाएं हो सकती हैं और यह कोई मायने नहीं रखता।’ दलाई लामा यहां आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा, ‘वर्ष 1951 में स्थानीय तिब्बत सरकार और पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के बीच तिब्बत की आजादी के लिए 17सूत्री एक समझौते पर हस्ताक्षर किया गया था। आज चीन बदल रहा है और वह सबसे अधिक बौद्ध आबादी वाला देश बन गया है। उन्हें (भारत और चीन को) ‘हिंदी-चीनी भाई भाई’ की दिशा में एक बार फिर लौटना चाहिए।’

उन्होंने कहा कि वहां (चीन में) कम्युनिस्ट सरकार है लेकिन बौद्ध धर्म को भी व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है। 14वें दलाई लामा ने कहा, ‘इससे पहले तिब्बत में दलाई लामा आध्यात्मिक एवं राजनीतिक गतिविधियों की अगुआई करते थे लेकिन वर्ष 2011 से मैंने पूर्ण रूप से राजनीति से संन्यास ले लिया। यह संस्थानों का लोकतंत्रीकरण करने का एक तरीका था, क्योंकि उनमें कुछ सामंती तत्व भी थे।’

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - एडिट प्लैटर