ताजा समाचार

मीडिया की सबसे शक्तिशाली हस्ती के खिलाफ आरोपों का असर

BY EP HINDI DESK | PUBLISHED: 5 September 2016

ROGER PIC

फॉक्स न्यूज़ में रोजर एइल के 20 साल के ‘साम्राज्य’ को समाप्त करने में सिर्फ 15 दिन लगे। उल्लेखनीय है कि अमरीकी मीडिया की इस सबसे शक्तिशाली और कई मायनों में ‘हिंसक’ माने जाने वाली हस्ती ने यौन उत्पीड़न के आरोपों के चलते जुलाई में अपने पद से त्यागपत्र दे दिया या कि उन्हें यह पद छोड़ना पड़ा जिस पर वे बीते 20 साल तक बिना किसी विरोध के सत्तारूढ़ रहे। यह आरोप चैनल की गेब्रियन शर्मन ने इस मामले न्यूयॉर्कर में प्रकाशित अपनी रपट में लगाया है ।

इसके अनुसार रोजर ने एक कंजरवेटिव केबल न्यूज़ चैनल ही खड़ा नहीं किया बल्कि यह तो सरकार के चौथे खंबे जैसा था; सरकार के लिए प्रोपगेंडा इकाई जैसा। ऐसा चैनल जो राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्ल्किन पार्टी के उम्मीदवार तय करता, युद्ध बेचता और अपने 20 लाख दर्शकों के हर दिन का एजेंडा तय करता। लेकिन जो मामले सामने आए हैं उनसे तो यह लगता है कि इस चैनल का कार्यालय अपने अधिकारों के ऐसे भौंडे इस्तेमालों से भरा था जिसे देखकर तो इसके उदार आलोचक भी सन्न रह गए हैं।

रपट के अनुसार दो दर्जन से भी अधिक महिलाओं ने आगे आकर रोजर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। इन महिलाओं ने जो खुलासे किए हैं वे महिलाओं के प्रति द्वेष की संस्कृति को ही परिलक्षित नहीं करते हैं बल्कि यह भ्रष्टाचार व निगरानी, बदनाम करने वाले अभियान और चुप्पी साधने के लिए धन की पेशकश जैसे ‘कुकर्मों’ को भी सामने लाता है। रपट के अनुसार इन खुलासों के प्रभाव फॉक्स न्यूज़ के आला अधिकारी की विदाई तक ही सीमित नहीं होंगे बल्कि उनका प्रभाव दूर तक जाएगा।

इस सारे प्रकरण या खुलासे की शुरुआत ‘फॉक्स एंड फ्रेंड्स’ की पूर्व मेज़बान ग्रेचन कार्ल्सन के वाद दायर करने से हुई। कार्ल्सन ने बताया है कि 2005 में जब वे इस चैनल से जुड़ीं तो रोजर ने उनके पैरों के बारे में किस तरह से भद्दी टिप्पणियां की या जब उन्होंने अपने कोहोस्ट स्टीव डूकी की शिकायत की तो किस तरह की बातें सुननी पडीं। बाद में उन्हें इस शो से हटा भी दिया गया।

इस विस्तृत रपट में 1996 में फॉक्स न्यूज की शुरुआत से लेकर अब तक के घटनाक्रम, रोजर के करियर में आए उतार चढ़ाव तथा इस प्रकरण के दूरगामी प्रभावों के बारे में विस्तार से आकलन किया गया है।

पूरी रपट यहां पढ़ें।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - गेब्रियल शर्मन, न्यूयार्कर

बड़ी खबरें

5 September 2016