ताजा समाचार

प्रौद्योगिकी ने पुरुष से छीनी नौकरी पर लौटाएगी बीते दिन

rtxe544

प्रौद्योगिकी ने लोगों की नौकरी छीनी और उन्हें बेकार बना दिया, नए रोजगार के मौके तो सामने आए लेकिन कुछ खास नहीं। एलिसन श्रेगर ने क्वार्ट्ज़.कॉम पर छपे अपने लेख में कहा है कि 19वीं शताब्दी के इंग्लैंड को देखें तो इंसान के काम करने के तरीके आज की ही याद दिलाएंगे उन दिनों में भी प्रौद्योगिकी की वजह से असंतोष बढ़ गया था।

अक्सर काम के मामले में मर्दानगी को जिस तरह से व्यक्त किया जाता है प्रौद्योगिकी के आने पर बेहतर मशीनों और रोबोट ने उसे बेकार बताते हुए वो सभी काम किए जो इंसान करता था बल्कि इंसानों की तुलना में ज़्यादा तेज़ी से और बेहतर तरीके से, जिसका नतीजा ये रहा की पारंपरिक रूप से काम में लगे लोगों की नौकरी जाने लगी।

सामने आए आंकडे भी कुछ इसी तरफ इशारा कर रहे हैं अमेरिकन सेंसक्स ब्यूरो के एक सर्वेक्षण की मानें तो ना सिर्फ रोजगार के तरीके बदले हैं बल्कि कमाई के मामले में भी 70 के दशक से आज तक बहुत मामूली ही बढ़त हुई है उल्टे कई रोजगारों में ये गिरी ही है। साथ ही ये रुझान पुराने पारंपरिक काम के लौटने की ओर भी इशारा कर रहे हैं।

नॉर्थवेस्टन यूनिवर्सिटी के इकोनॉमिक्स के एक इतिहासकार जोल मॉकर मुताबिक इंसान का खेत से फैक्ट्रियों में काम करने तक का सफर बहुत ही दुखद है लेकिन साथ ही वो अपने आने वाली चौथी किताब ‘ए कल्चर ऑफ ग्रोथ’ में उन कठिन परिस्थितियों का भी वर्णन करते हैं जो पुरुषों के लिए बहुत ही दर्दनाक थी साथ ही इस बात का भी वर्णन करते हैं कि कैसे फैक्ट्रियों में महिलाओं और बच्चों से काम लेना ज्यादा आसान माना जाता था।

इसी दौरान मॉक्सवादी प्रभाव में कुछ कारख़ाना मालिकों ने कुछ सुधारवादी काम किए हालांकि उसके पीछे की मंशा उनके अपने हक में थी ना की मजदूरों के। दिन बदले और रेल रोड और टेलीग्राफ का ज़माना आया 20वीं शताब्दी में यूनियन तो बनीं लेकिन उनका और फैक्ट्रियों का छत्तीस का आंकड़ा रहा।

जोल मॉकर भविष्य के रोजगार के बारे में बताते हैं कि एक बार फिर से मध्यम वर्ग में वो दौर लौटेगा जो शिल्प रोजगार से जुड़ेगा। उनके मुताबिक नई प्रौद्योगिकी इंसान का अंत नहीं करेगी बल्कि उस दौर को वापस लेकर आएगी जहां दोनों में बेहतरीन तालमेल होगा।

एलिसिन श्रेगर का पूरा लेख यहाँ पढ़ें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - एलिसन श्रेगर, क्वॉर्ट्ज़.कॉम

बड़ी खबरें

5 September 2016