< Prev 5 / 6 Next >

क्यों वीरेंद्र सहवाग फूहड़ता के सुल्तान बनते जा रहे हैं?

वीरेंद्र सहवाग

वीरेंद्र सहवाग अभी चढ़ाई पर हैं क्योंकि उनकी फूहड़ता को ऑडियंस मिल रही है. उनको जितनी ऑडियंस मिलेगी वो और फूहड़ होते जाएंगे. आगे चल कर आपको बीवी-देवर वाले जोक्स भी देखने को मिल सकते हैं.वीरेंद्र सहवाग ने फिर कुछ कहा. क्या कहा? कहा कि पोता हार गया है, बाप-बेटे का मुकाबला है और बाप फिर बेटे को हरा देगा.सहवाग नज़फगढ़ से आते हैं और एक जाट हैं. मैं भी एक जाट परिवार से आता हूं. सहवाग की तरह मेरा संबंध भी हरियाणा से है.

सहवाग जैसे बेहुदे चुटकुले बनाने वाले लोग मेरे गांव में आपको हर नुक्कड़ पर मिल जाएंगे. गांव में नुक्कड़ नहीं होते. चौन्त्रियां और बैठक होती हैं.एक चौन्त्री दरवाजे के बाहर बैठने की एक छोटी सी जगह होती है जहां हर रोज सुबह होते ही सहवाग जैसे मोनू-सोनू अखबार और चाय लेकर बैठ जाते हैं और आते-जाते लोगों पर टिप्पणियां करते हैं. क्यों करते हैं?

इसका जवाब मिल सकता था पर आजकल हरियाणा के वैज्ञानिक सरस्वती नदी का पानी ढूंढ रहे हैं तो इस पर शोध करने का उनके पास समय नहीं है.क्यों का कोई खास जवाब नहीं है पर करते हैं. उनसे पहले उनके बड़े करते थे और उनके बड़ों से पहले उनके बड़े.हंसमुख और मजाकिया दिखने की कोशिश इनको दिनोंदिन फूहड़ बना देती है और चूंकि हर रोज पिछले दिन से ज़्यादा मजाकिया होना होता है तो फूहड़ता की डिग्री बस बढ़ती रहती है.

मेरे घर में पांच सहवाग हैं और सब के सब सहवाग से अच्छा मजाक कर लेते हैं. जब मुझे अंदाज़ा नहीं था कि उनके भाभी-देवर वाले और उसकी बहु-इसकी बहु वाले चुटकुले घटिया स्तर के हैं तब तक मैं भी ठहाके लगा कर हंसता था.इस सोच और लहजे का प्रमाण आपको कपिल शर्मा के शो में भी दिख जाएगा. कपिल शर्मा भी वर्षों से वही बेच रहे हैं. सहवाग को आप क्रिकेट का कपिल शर्मा कह सकते हैं.

आलेख विस्तार से पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App

Source - अमित श्योकंद, द वायर

< Prev 5 / 6 Next >